“कशमकश”

छन्द अलंकारों से सजी कविता
मुझे सोलह श्रृंगार युक्त दुल्हन
तो कभी बोन्सई की वाटिका समान लगती है ।

कोमलकान्त पदावली और मात्राओं-वर्णों की गणना
उपमेय-उपमान , यति-गति के नियम और
भाषा सौष्ठव सहित छन्दों की संकल्पना ।

कोमल इतनी की छूने से
मुरुझा जाने का भरम पलता है
नर्म नव कलिका सी टूट जाने का डर.लगता है ।

मुझे कविता कानन में बहती बयार
तो कभी निर्मल निर्झर समान  लगती. है
नियम में बाँधू तो जटिल आंकड़ों की संरचना जान पड़ती  है ।

XXXXX

“मीना भारद्वाज”

14 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/02/2017
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 11/02/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 11/02/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 11/02/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 11/02/2017
  5. mani mani 12/02/2017
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 12/02/2017
  7. C.M. Sharma babucm 13/02/2017
  8. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 13/02/2017
  9. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 14/02/2017
  10. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 14/02/2017
  11. ALKA ALKA 23/03/2017
  12. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 24/03/2017

Leave a Reply