कुदरत का खेल- शिशिर मधुकर

तुमको दिल दिया ये सब कुदरत का खेल था
वरना यहाँ पर तेरा मेरा ना कभी कोई मेल था
मुझको ख़ुशी है उड़कर के तुम आज़ाद हो गए
बड़ी मजबूत दीवारों का ये उल्फ़त का जेल था

शिशिर मधुकर

10 Comments

  1. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 09/02/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/02/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 09/02/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/02/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 09/02/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/02/2017
  4. babucm babucm 09/02/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/02/2017
  5. Kajalsoni 10/02/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 10/02/2017

Leave a Reply