ग़ज़ल

नज़र आ रही तू जिधर देखते है |
तेरे इश्क का ही असर देखते है ||

नहीं है खबर खुद की ही आशिकी में |
करे बात मेरी नगर देखते है ||

दिखाता नहीं ज़ख़्म मैं हर किसी को |
बशर मार पत्थर जिगर देखते है ||

जले है जमाना हमें देख कर जो |
जरा सा कभी हम निखर देखते है |

“मनी” है नहीं अब गिला तुम से कोई |
रही जिंदगी का सफ़र देखते है |

मनिंदर सिंह “मनी”

18 Comments

    • mani mani 08/02/2017
  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/02/2017
    • mani mani 08/02/2017
  2. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/02/2017
    • mani mani 08/02/2017
      • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/02/2017
        • mani mani 08/02/2017
          • डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 08/02/2017
          • mani mani 08/02/2017
  3. Shabnam Shabnam 08/02/2017
    • mani mani 08/02/2017
  4. C.M. Sharma babucm 09/02/2017
    • mani mani 12/02/2017
  5. Kajalsoni 10/02/2017
    • mani mani 12/02/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 10/02/2017
    • mani mani 12/02/2017

Leave a Reply