प्रीत का रंग – शिशिर मधुकर

हाथ छूटे हैं जीवन में मगर बंधन तो नहीं टूटे
दूरीयां चाहे हों जैसी ना तुम रूठे ना हम रूठे

समय का फेर है सारा इसका क्या करे कोई
ऋतु जब आएगी खिल जाएँगे पत्ते नए बूटे

ज़माने की बातों का असर हो जाता है अक्सर
मुहब्बत में नहीं करता वरना वादे कोई झूठे

ये मालिक की मर्जी थी जो तुम पास में आए
बिना कारण दिलों में प्रीत के अंकुर नहीं फूटे

बदल सकती है हर ईक चीज़ मौसम बदलने से
प्रीत का रंग ये गहरा पर मधुकर ना कभी छूटे

शिशिर मधुकर

16 Comments

  1. babucm babucm 31/01/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/01/2017
  2. Shabnam Shabnam 31/01/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/01/2017
  3. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 31/01/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/01/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 31/01/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 31/01/2017
  5. mani mani 01/02/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/02/2017
  6. Madhu tiwari Madhu tiwari 01/02/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/02/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 03/02/2017
  7. Kajalsoni 03/02/2017
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/02/2017

Leave a Reply