सत्यता ही झलक रही है मेरी इन बातों में तुम ही रंगी भर जाती हो मेरी सूनी रातों में

20170130093045

One Response

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 30/01/2017

Leave a Reply