‘… वीरों को’

सुनों हिंद देश के वासी, नमन करो शहीदों को
जिन्होंनें देश आज़ाद कराया, याद करो उन वीरों को

अंग्रेजों को मार भगाया
जग में जिनका शौर्य छाया
रण भूमि में खून बहा या
तब जाकर ये शुभ दिन आया

गुणगान करो उन हीरों का, खोलकर अपने अधरों को
जिन्होंनें देश आज़ाद कराया, याद करो उन वीरों को

दुश्मन का जिनको खौप न आया
सदा तिरंगा दिल में बसाया
खेली थी जिन्होंने खून की होली
सीनें पर अपने झेली थी गोली

तोड़ दिया जिन महारथियों नें, गुलामी की जंजीरों को
जिन्होंनें देश आज़ाद कराया, याद करो उन वीरों को

आज़ादी को जां लुटा दी
भारत माँ की लाज बचा ली
दुश्मन से कभी हार न मानी
एेसे थे वो स्वतंत्रता सेनानी

जिनके सिर पर अंग्रेजों नें, तान दिया करवीरों को
जिन्होंनें देश आज़ाद कराया, याद करो उन वीरों को

– योगेश कुमार ‘पवित्रम’

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/01/2017
  2. C.M. Sharma babucm 25/01/2017

Leave a Reply