मयक़दा सबका है सब हैं प्यासे

मयक़दा सबका है सब हैं प्यासे यहाँ
मय बराबर बटे चारसू दोस्तो
चंद लोगों की ख़ातिर जो मख़सूस हों
तोड़ दो ऐसे जामो-सुबू दोस्तो!

Leave a Reply