“गुजारिश”

गेसुओं में फिरती अंगुलियों की गर्माहट ,
दबे सुर में लोरी की गुनगुनाहट ।
आँखों में जलन सी भरी है ,
एक अंजुरी भर नींद की भेजो ना ।।
भूली-बिसरी यादों की  ,
अनदेखे ख्वाबों की गाँठ लगी गठरी ।
घर के किसी कोने में ,
बेतरतीबी से रखी है ।।
एक गुजारिश है तुमसे  ,
मेरे अहसासों को नेह भरी पाती संग ।
मेरे अनमोल थाती समझ ,
मुझ तक भेजो ना ।।
XXXXX
“मीना भारद्वाज”

12 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/01/2017
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 18/01/2017
  3. C.M. Sharma babucm 19/01/2017
  4. C.M. Sharma babucm 19/01/2017
  5. C.M. Sharma babucm 19/01/2017
  6. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 19/01/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 19/01/2017
  7. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 19/01/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 19/01/2017
  8. ALKA ALKA 24/03/2017
  9. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 24/03/2017

Leave a Reply