ग़रीब की बेटी (विवेक बिजनोरी)

 

“मुझको इस काबिल बनाया, खुद भूखे प्यासे रहकर,
मेरे बाबा ने मुझको समझा है सबसे बेहतर।
मैं ग़रीब की बेटी अपने बाबा का सम्मान करूँ,
माफ़ करना हे ईश्वर तुझसे पहले जो उनका गुंडगाँन करूँ।।

(विवेक बिजनोरी)

4 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 17/01/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 17/01/2017
  3. babucm babucm 19/01/2017

Leave a Reply