हमारे भय पे पाबंदी लगाते हैं

हमारे भय पे पाबंदी लगाते हैं
अंधेरे में भी जुगनू मुस्कुराते हैं

बहुत कम लोग कर पाते हैं ये साहस
चतुर चेहरों को आईना दिखाते हैं

जो उड़ना चाहते हैं उड़ नहीं पाते
वो जी भर कर पतंगों को उड़ाते हैं

नहीं माना निकष हमने उन्हें अब तक
मगर वो रोज़ हमको आज़माते हैं

उन्हें भी नाच कर दिखलाना पड़ता है
जो दुनिया भर के लोगों को नचाते हैं

बहुत से पट कभी खुलते नहीं देखे
यूँ उनको लोग अक्सर खटखटाते हैं

हमें वो नींद में सोने नहीं देते
हमारे स्वप्न भी हम को जगाते हैं

Leave a Reply