ग़ज़ल-कट रही या जिंदगी को जी रहा हूँ

कट रही या जिंदगी को जी रहा हूँ |
बेखबर हो मैं लबो को सी रहा हूँ ||

हर तरफ है दौर नफरत से भरा जो |
है नहीं मरजी मेरी पर जी रहा हूँ ||

खून पानी सा बना है हर किसी का |
जाम हर दिन इक लहू का पी रहा हूँ

जात महजब खेलते है खेल आदम |
जीतने को भाग सा मैं भी रहा हूँ ||

है नहीं कोई ‘मनी’ अपना रहा सा |
बेमानी सी ज़िन्दगी मैं जी रहा हूँ ||

मनिंदर सिंह “मनी”

12 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 08/01/2017
    • mani mani 10/01/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 08/01/2017
    • mani mani 10/01/2017
  3. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 09/01/2017
    • mani mani 10/01/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 09/01/2017
    • mani mani 10/01/2017
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/01/2017
    • mani mani 10/01/2017
  6. निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 09/01/2017
    • mani mani 10/01/2017

Leave a Reply