लोग जो गुनगुनाते रहे

लोग जो गुनगुनाते रहे
मन ही मन सुर में गाते रहे ।

अनवरत मीठी मुस्कान से
फूल सबको लुभाते रहे ।

ख़ुद भी उड़ते हैं आकाश में
जो पतंगे उड़ाते रहे ।

सिर मुड़ाते ही ओले पड़े
लोग सिर को बचाते रहे ।

मेघ बनकर समंदर सदा
मीठे जल तक भी आते रहे ।

काला धन कुछ रुका देश में
कुछ विदेशों में ‘खाते’ रहे ।

ऊँचे महलों के रक्षा-कवच
सबसे पहले अहाते रहे !

Leave a Reply