सुनो ……शेरो शायरी—-डी. के निवातिया

sp1483622092152

सुनो, कुछ नही है तो यादो में आते क्यों हो
पल – पल ख्यालो में आकर सताते क्यों हो
न किस्मत अपनी, न जिगर तुममे इतना
फिर सपने दीद के दिल में सजाते क्यों हो !!
!
!
!
@—डी. के निवातिया –@

16 Comments

  1. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 05/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/01/2017
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/01/2017
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 05/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/01/2017
  4. babucm babucm 06/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/01/2017
  5. mani mani 06/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/01/2017
  6. कृष्ण सैनी कृष्ण सैनी 09/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 11/01/2017

Leave a Reply