ग़ज़ल-बात मुझ से आप कर के देखिये-मनिंदर सिंह “मनी”

बात मुझ से आप कर के देखिये |
आज थोड़ा सा सवंर के देखिये ||

क्यों नहीं नजदीक आते हमनवां |
मेरे नैनो में उतर के देखिये |

तुम सताते हो मुझे क्यों हमसफ़र |
हो सके तो मुझ पे मर के देखिये ||

हाल ऐ दिल को समझते क्यों नहीं |
खुद से मेरा जिक्र कर के देखिये ||

है सजाये सपने मैंने कुछ “मनी” |
दिल की राहों से गुजर के देखिये ||

मनिंदर सिंह “मनी”
2122 2122 212

15 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 05/01/2017
    • mani mani 05/01/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 05/01/2017
    • mani mani 05/01/2017
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 05/01/2017
    • mani mani 05/01/2017
      • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 05/01/2017
        • mani mani 06/01/2017
  4. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 05/01/2017
    • mani mani 06/01/2017
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/01/2017
    • mani mani 06/01/2017
  6. C.M. Sharma babucm 06/01/2017
    • mani mani 06/01/2017

Leave a Reply