“बाढ़”

सुना कहीं से , शहर में कल रात
अचानक बाढ़ आ गई
प्राकृतिक आपदा है
कभी भी , कहीं भी

बिना चेतावनी के, आ जाती है
दुख की बात है
आती है तो विनाश और
भयावहता की लकीरें भी छोड़ जाती है
दुखी हम हैं तो बचाव के रास्ते भी
हमें ही तलाशने होंगे
ईंट-पत्थरों के नहीं
संस्कारों के भवन बनाने होंगे
सजग हौंसलों और दृढ़ संकल्प की
दरकार होगी
आरोपों-प्रत्यारोपों से नही
मानवीय गुणों से जिन्दगियाँ
आबाद  होंगी .


  XXXXX

“मीना भारद्वाज”

16 Comments

  1. mani mani 04/01/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 04/01/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 04/01/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 04/01/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 04/01/2017
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 04/01/2017
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 04/01/2017
  5. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 05/01/2017
  6. babucm babucm 05/01/2017
  7. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 05/01/2017
  8. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 05/01/2017
  9. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 05/01/2017
  10. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 09/01/2017
  11. ALKA ALKA 24/03/2017
  12. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 24/03/2017

Leave a Reply