गगन तक मार करना आ गया है

गगन तक मार करना आ गया है,
समय पर वार करना आ गया है ।

उन्हें……कविता में बौनी वेदना को,
कुतुब-मीनार करना आ गया है !

धुएँ की स्याह चादर चीरते ही,
घुटन को पार करना आ गया है ।

अनैतिक व्यक्ति के अन्याय का अब,
हमें प्रतिकार करना आ गया है ।

खुले बाजार में विष बेचने को,
कपट व्यवहार करना आ गया है ।

हम अब जितने भी सपने देखते हैं,
उन्हें साकार करना आ गया है ।

शिला छूते ही, नारी बन गई जो,
उसे अभिसार करना आ गया है

Leave a Reply