नूतन वर्ष

नूतन किरणें ,नूतन प्रभात ,है नूतन यह वर्ष ,
नूतन ऊर्जा,नूतन खुशियाँ ,है दिलों में नूतन हर्ष ,,,,,,

बीत रहा जो साल है वो यादें बन जायेगा ,
आने वाला कल नई खुशियाँ ले आएगा ,
जो अपने है वो साथ चलेंगे
जो छूट गए वो याद रहेंगे
कुछ खट्टी -मीठी यादों के संग
बीत रहा यह वर्ष ,
नूतन ऊर्जा ,नूतन खुशियाँ ,है दिलों में नूतन हर्ष,,,,,,

झूम उठी हैं दिशाएं ,गा रही है हवाएं
बाग़ का देखो कैसे हर फूल मुस्कुराये
पत्ती -पत्ती पे शबनम बिखरने लगी
डाली -डाली भी देखो संवरने लगी
उजली -उजली भोर लिए आ गया है
नूतन वर्ष,
नूतन ऊर्जा,नूतन खुशियाँ ,है दिलों में नूतन हर्ष ,,,,,

दिल में तरंग है ,मन में उमंग है
उम्मीदों का कारवाँ फिर से मेरे संग है
ख़्वाब नए बुनने लगी हूँ मैं
राह नई फिर से चुनने लगी हूँ मैं
मंगलमय क्षितिज पर हो रहा है नवउत्कर्ष,
नूतन वर्ष का करती हूँ मैं अभिनन्दन सहर्ष,
नूतन ऊर्जा,नूतन खुशियाँ ,है दिलों में नूतन हर्ष ,,,,,

सीमा “अपराजिता “

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/01/2017
    • सीमा वर्मा सीमा वर्मा 01/01/2017
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 01/01/2017
    • सीमा वर्मा सीमा वर्मा 01/01/2017
  3. babucm babucm 01/01/2017
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 01/01/2017
  5. डॉ. विवेक डॉ. विवेक 01/01/2017

Leave a Reply