मैं कौन हूँ……मनिंदर सिंह “मनी”

मैं कौन हूँ,
इस सवाल में उलझा हूँ मैं,
कहाँ से आया,
कहाँ है जाना,
क्या पहचान है मेरी,
क्या मंजिल है मेरी,
क्या वजूद है मेरा,
क्या कर्तव्य है मेरा,
अजब सी पहेली में उलझा हूँ मैं,
मैं कौन हूँ,
इस सवाल में उलझा हूँ मैं,
कहीं रिश्तो को निभाता,
कहीं सहसा सब तोड़ जाता,
कहीं दर्द में तड़पता,
कहीं हँसी से खिलता,
हर पल कश्मकश में उलझा हूँ मैं,
मैं कौन हूँ,
इस सवाल में उलझा हूँ मैं,
कभी इधर, कभी उधर,
पल पल बदल रहा हूँ,
कठपुतली सा,
बेखबर सा, बेसब्र सा,
किसी के इशारो पर नाच रहा हूँ,
कठपुतली सा,
क्या बूँद हूँ, किसी आंख से गिरी,
क्या मद हूँ, किसी प्याले से गिरी,
सोच कर परेशानी में उलझा हूँ मैं,
मैं कौन हूँ,
इस सवाल में उलझा हूँ मैं,
धर्म कहे, कर्म ही धर्म,
और जो जग में कमाया,
उसे मिथ्या कहे धर्म,
कहीं प्रेम सागर में डूब रहा,
कहीं ईष्या में जल रहा,
कहीं जो अपमान है,
वही कहीं सम्मान है,
अपनी ही उल्फत में उलझा हूँ मैं,
मैं कौन हूँ,
इस सवाल में उलझा हूँ मैं,
कहीं रंगों में सजा हुआ,
कहीं बेरंग सा हुआ,
क्या हूँ मैं?
क्यों हूँ मैं?
खुद मैं उलझा हूँ मैं,
मैं कौन हूँ,
इस सवाल में उलझा हूँ मैं,

मनिंदर सिंह “मनी”

14 Comments

  1. babucm babucm 27/12/2016
  2. mani mani 27/12/2016
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 27/12/2016
    • mani mani 28/12/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 27/12/2016
    • mani mani 28/12/2016
  5. कृष्ण सैनी krishan saini 27/12/2016
    • mani mani 28/12/2016
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 27/12/2016
    • mani mani 28/12/2016
  7. आनन्द कुमार ANAND KUMAR 28/12/2016
    • mani mani 28/12/2016
  8. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 28/12/2016
    • mani mani 29/12/2016

Leave a Reply