तमाशा…सी. एम्. शर्मा (बब्बू)…..

तालियों की गड़गड़ाहट हो रही थी…
सब खड़े हो के ताली बजा रहे थे…
जैसे दुनिया में तमाशा…
चपल उँगलियों में नाचती…
कठपुतलियों का पहली बार देखा हो…

कितने अनजान हैं हम खुद से ही…
\
/सी. एम्. शर्मा (बब्बू)…..

 

12 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 23/12/2016
    • babucm babucm 24/12/2016
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/12/2016
    • babucm babucm 24/12/2016
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 23/12/2016
    • babucm babucm 24/12/2016
  4. Madhu tiwari Madhu tiwari 23/12/2016
    • babucm babucm 24/12/2016
  5. निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 23/12/2016
    • babucm babucm 24/12/2016
    • babucm babucm 27/12/2016

Leave a Reply