दिल की खोली — डी के निवातिया

खाली है दिल कि खोली इसको भर दो
कुछ दौलत अपनी हमे  ईनाम कर दो
नहीं चाहिये कुबेर या जमीं का टुकड़ा
थोड़ी सी चाहत अपनी मेरे नाम कर दो !!
!
!
!
डी के निवातिया

10 Comments

  1. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 19/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/01/2017
  2. C.M. Sharma babucm 19/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/01/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 20/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/01/2017
  4. sumit jain sumit jain 21/01/2017
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/01/2017

Leave a Reply