उस बेटी की फिर याद आई—मधु तिवारी

उस बेटी की फिर याद आई
चारों ओर उदासी छाई
वैसे हरदम रहती दिल मे,
बरसी मे फिर ली अंगड़ाई

चारों ओर अंधेरा था
दुर्दिन ने तुझको घेरा था
फल करनी का पाए वो
तुझपे जुल्म ढाए जो
आज तेरी यादों मे फिर
सबकी आंखें भर भर आई
उस बेटी की फिर याद आई

लड़ी है तुम जान तक
संदेश दिया इन्सान तक
जन जन को दिया झकझोर
जैसे उठा दिया झिंझोड़
जगा दिया हम सबको फिर,
खुद तारों मे जा समाई
फिर उस बेटी की याद आई

गीत मेरा है तुझे समर्पित
सृद्धा सुमन है करता अर्पित
फिर ऐसा न हो कहीं पर
फिर न लुटे कभी कोई घर
हे देव! निर्भया बेटी की,
जग मे रखना मान बड़ाई
फिर उस बेटी की याद आई
फिर उस बेटी की याद आई।

18 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/12/2016
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 16/12/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 16/12/2016
      • Madhu tiwari Madhu tiwari 16/12/2016
  3. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 16/12/2016
  4. निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 16/12/2016
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 16/12/2016
  6. Manjusha Manjusha 16/12/2016
  7. Madhu tiwari Madhu tiwari 16/12/2016
  8. babucm babucm 16/12/2016
  9. mani mani 17/12/2016

Leave a Reply