मौत-1…सी. एम्. शर्मा (बब्बू)….

ज़िन्दगी के साज़ पे हर पल बज रही धुन हो तुम…
बेआवाज़ आहट बन हर पल बढ़ती आती हो तुम…
जान अटकी है तुमसे फिर भी अनजान बनते हैं हम…
मौत बिन बुलाई नहीं चिर परिचित मेहमान हो तुम..
\
/सी. एम्. शर्मा (बब्बू)

12 Comments

    • C.M. Sharma babucm 09/12/2016
  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 08/12/2016
    • C.M. Sharma babucm 09/12/2016
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 08/12/2016
    • C.M. Sharma babucm 09/12/2016
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 08/12/2016
    • C.M. Sharma babucm 09/12/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 09/12/2016
    • C.M. Sharma babucm 09/12/2016
  5. M Sarvadnya M Sarvadnya 11/12/2016
    • C.M. Sharma babucm 13/12/2016

Leave a Reply