सूरज कल भोर में जगाना

नींद नहीं
टूटे तो
देह गुदगुदाना |
सूरज
कल भोर में
जगाना |

फूलों में
रंग भरे
खुशबू हो देह धरे ,
मौसम के
होठों से
रोज सगुन गीत झरे ,

फिर आना
झील -ताल
बांसुरी बजाना |

हल्दी की
गाँठ बंधे
रंग हों जवानी के ,
इन सूखे
खेतों में
मेघ घिरें पानी के ,

धरती की
कोख हरी
दूब को उगाना |

लुका -छिपी
खेलेंगे
जीतेंगे -हारेंगे
मुंदरी के
शीशे में
हम तुम्हें निहारेंगे ,

मन की
दीवारों पर
अल्पना सजाना |

Leave a Reply