आँखों से तेरी छलकता है इश्क-मनिंदर सिंह “मनी”

आँखों से तेरी छलकता है इश्क,
बन गीत लब पर थिरकता है इश्क,

काली घटा सी जुल्फें है तेरी ये,
जुल्फें देख तेरी सवँरता है इश्क,

हम हो गये तेरी नज़र से कत्ल,
इस कत्ल में भी झलकता है इश्क,,

है चाल हिरणी सी तेरी, बल खाती,
सज धज के राहों पे निकलता है इश्क,

नगमा “मनी” बन जा तू, मेरे दिल में,
तेरे लिये मेरा धडकता है इश्क,,

मनिंदर सिंह “मनी”

12 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 05/12/2016
    • mani mani 06/12/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 05/12/2016
    • mani mani 06/12/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/12/2016
    • mani mani 06/12/2016
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 05/12/2016
    • mani mani 06/12/2016
  5. babucm babucm 05/12/2016
    • mani mani 06/12/2016
    • mani mani 06/12/2016

Leave a Reply