आशा…सी. एम्. शर्मा (बब्बू)…..

आपरेशन थिएटर पे लाल बल्ब जल रहा है…..
बाहर कुछ लोग अपलक उसको देखे जा रहे हैं..
सांसें चलती हुई भी रुकी सी हैं सबकी….
सर्द मौसम में भी पसीने की बूँदें चमक रही हैं…
अजीब सा सन्नाटे का शोर पसरा है…
आँखें…दिल…कान…हर आती जाती आहट को सुन रहे हैं…
कब क्या खबर मिले…..

अंदर एक गर्भवती महिला अपने बच्चे को जन्म देने वाली है…
धड़कने अनियंत्रित हुई जा रही थी उसकी…
सांसें जैसे धौंकनी से निकल रही हों…..
पसीने से लथपथ थी वो….
डॉक्टर ने बोला था बच्चे की धड़कन बंद हो रही है….
और माँ की हालात भी नाज़ुक सी…
इमरजेंसी है…माँ और बच्चा कोई एक ही बचेगा…
डॉक्टर घडी की सुईओं से तेज भाग रहे हैं…
माँ की सांसें उन सबसे तेज भाग रही हैं….
और बाहर….
सब की सांसें एक दम रुकी सी…

अजीब सी कश्मकश है ज़िन्दगी और मौत की….
एक पल एक वर्ष जैसे बीतता है किसी का….
तो किसी का एक वर्ष जैसे एक पल में निकल रहा….
किसी की चाह कि समय और मिल जाए…
किसी की चाह की समय जल्दी क्यूँ नहीं निकलता…
क्यूँ अटका है वहीँ….
लेकिन इन सब में सेतुपुल है तो बस एक…
आशा…
सब कुछ ठीक होगा…
ऐसी आशा…
\
/सी. एम्. शर्मा (बब्बू)

अभी जारी है……..

10 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 05/12/2016
    • C.M. Sharma babucm 06/12/2016
  2. Madhu tiwari Madhu tiwari 05/12/2016
    • C.M. Sharma babucm 06/12/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 05/12/2016
    • C.M. Sharma babucm 06/12/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/12/2016
    • C.M. Sharma babucm 06/12/2016
    • C.M. Sharma babucm 06/12/2016

Leave a Reply