जीना नहीं आता – शिशिर मधुकर

जाम होता हैं कुछ के सामने पर पीना नहीं आता
कुसुम को रौँदने वाले को कभी जीना नहीं आता

हीरे तो मिल जाते हैं अक्सर जीवन की राहों में
सबकी कीमत बताने को मगर जौहरी नहीं आता

उसके सम्मान की खातिर ज़माने से लड़ा मैं भी
ना जाने कौन से जन्मों का उससे था मेरा नाता

जीवन के सफर में वैसे तो कई मौसम बदलते हैं
पर हर इंसान को हर ईक मौसम तो नहीं भाता

अपने वादों को भुलाना मेरी फितरत में ही नहीं
वरना अपमान सह कर यूँ मैं कसमें ना निभाता

शिशिर मधुकर

12 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 05/12/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/12/2016
  2. mani mani 05/12/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/12/2016
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 05/12/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/12/2016
  4. निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 05/12/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 05/12/2016
  5. babucm babucm 05/12/2016
  6. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/12/2016
  7. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/12/2016

Leave a Reply