शहनाई गूंज रही

जाने क्या होता
इन प्यार भरी बातों में?
रिश्ते बन जाते हैं
चन्द मुलाकातों में ।

मौसम कोई हो
हम अनायास गाते हैं,
बंजारे होठ मधुर
बाँसुरी बजाते हैं,

मेंहदी के रंग उभर आते हैं
हाथों में ।

खुली-खुली आँखों में
स्वप्न सगुन होते हैं,
हम मन के क्षितिजों पर
इन्द्रधनुष बोते हैं,

चन्द्रमा उगाते हम
अँधियारी रातों में ।

सुधियों में हम तेरी
भूख प्यास भूले हैं
पतझर में भी जाने
क्यो पलाश फूले हैं

शहनाई गूँज रही
मंडपों कनातों में।

Leave a Reply