लोग हुए बेताल से

इस मौसम की
बात न पूछो
लोग हुए बेताल से ।

भोर नहाई
हवा लौटती
पुरइन ओढ़े ताल से ।

चप्पा-चप्पा
सजा-धजा है
सँवरा निखरा है
जाफ़रान की
ख़ुशबू वाला
जूड़ा बिखरा है

एक फूल
छू गया अचानक
आज गुलाबी गाल से ।

आँखें दौड
रही रेती में
पागल हिरनी-सी,
मुस्कानों की
बात न पूछो
जादूगरनी-सी,

मन का योगी
भटक गया है
फिर पूजा की थाल से

सबकी अपनी
अपनी ज़िद है
शर्तें हैं अपनी,
जितना पास
नदी के आए
प्यास बढ़ी उतनी,

एक-एक मछली
टकराती जाने
कितने जाल से ।

Leave a Reply