यह सब कैसे हो जाता है

यह सब कैसे हो जाता है ?
यह सब कैसे
हो जाता है  ?
सिर्फ़ तुम्हारे होने भर से |

हम अच्छी
कविता लिखते हैं ,
दरपन में
सुन्दर दिखते हैं ,
मौसम अपना
राग बदलकर
गाता है अनछुए अधर से |

हरी गाछ पर
चिड़िया गाती ,
धूप -मखमली
घास सजाती ,
अनगिन रंग
खुशबुओं से भर
महक रहे हैं फूल इतर से |

रिश्ते -नाते
उत्सव -न्योते ,
तुमसे मघई –
पान -सरौते ,
पायल ,बिछिया
पाँव महावर
लटक रही करधनी कमर से |

हल्दी -अक्षत
खुली कलाई ,
पर्वत -झील
नदी ,अमराई ,
हम घंटों
बतियाते रहते
खुद से ,तुमसे और लहर से |

शोख हवाएं
वंशी -मादल ,
तुम घर -आंगन
बजती सांकल ,
खुल जाते हैं
राज दिलों के
आनाकानी, अगर -मगर से |

मेघदूत की
विरह वेदना ,
कालिदास की
सघन चेतना ,
एक उर्वशी
कुछ कहती है
सपनों में आकर दिनकर से

Leave a Reply