आहत -शिशिर मधुकर

हो गए दूर तुम मुझसे ये ज़माने की चाहत थी
कैसे कहूँ तुमसे ये रूह किस कदर आहत थी
लाख कोशिश करी इस दर्द से मुक्ती पाने की
फ़िर भी मगर मुझको ना मिली कोई राहत थी

शिशिर मधुकर

9 Comments

  1. mani mani 02/12/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/12/2016
  2. rakesh kumar rakesh kumar 02/12/2016
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 02/12/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/12/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 02/12/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/12/2016
  5. C.M. Sharma babucm 02/12/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/12/2016

Leave a Reply