क्यों… (मुअद्दस मुसल्सल ग़ज़ल)

मुअद्दस मुसल्सल ग़ज़ल

 

माना के बदलाव के लिये बदलाव का होना जरुरी है !
पर क्यों इसमें आमजन को ही फ़ना होना जरूरी है !!
!
क्यों नही जलते शोलो में हाथ आग लगाने वालो के !
क्यों हरबार किसान मजदूर को जान खोना जरुरी है !!
!
धनपति उड़ा रहे नोट कागज़ की माफिक शादियों में
क्यों गरीब की बेटी को ही सन्ताप में रोना जरुरी है !!
!
नहीं देखा किसी ख़ास वर्ग को मुफलिसी में जीते हुए !
क्यों तुझे और मुझे ही कतार में खड़ा होना जरुरी है !!
!
इरादा नही “धर्म” का दोष दे किसी को सुकर्म के लिये
बस इल्तिज़ा ये,भागीदारी सबकी “सम” होना जरुरी है !!
!
!
!
डी. के. निवातिया _________!!!

10 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 03/12/2016
    • निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 06/12/2016
  2. babucm babucm 03/12/2016
    • babucm babucm 03/12/2016
      • निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 06/12/2016
    • निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 06/12/2016
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 03/12/2016
    • निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 06/12/2016
    • निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 06/12/2016

Leave a Reply