हो तो अजनबी “” “””””””सविता वर्मा

हो तो अजनबी तुम
क्षण – क्षण मुझे अपने
आप को भुलाने पर
विवश कर रहे हो।।।

हो तो मेरे लिए प्रेम तुम
सत्य – असत्य के साथ
तड़प की नाव पर
सवार कर रहे इस।।

हो तो हृदय का सुकून तुम
पहर – बेपहर जगा कर
आखों में खुद को ही
रखने की कोशिश कर रहे हो।।।

6 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/11/2016
    • Saviakna Saviakna 06/12/2016
  2. babucm babucm 01/12/2016
    • Saviakna Saviakna 06/12/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 01/12/2016
    • Saviakna Saviakna 06/12/2016

Leave a Reply