तेरी क्या तस्वीर लिखूँ

भारत माता
तेरी
क्या तस्वीर लिखूं ?
दिल्ली
या गुजरात कि
मैं कश्मीर लिखूं |

मुखिया का
ईमान
मुखौटों वाला है ,
परजा के
मुँह गोदरेज का
ताला है ,
टू जी
थ्री जी
या इससे गम्भीर लिखूँ |

लूटपाट
अपहरण
फिरौती ,हिंसा है ,
नये दौर में
ये ही
सत्य -अहिंसा है ,
फांसी पर
लटकी
रांझे की हीर लिखूँ |

नीति -नियंता
गिरवीं
हाथ दलालों के ,
हम गुलाम
शहरों के
शापिंग मालों के ,
पेड़
बबूलों के
कैसे अंजीर लिखूँ |

राजमार्ग पर
टोल टैक्स के
पहरे हैं ,
लालकिले के
भाषण
बहुत सुनहरे हैं ,
काशी
मगहर चुप हैं
किसे कबीर लिखूँ |

अब सत्यमेव
जयते में
सत्य नहीं मिलता ,
यह ताल
सियासी इसमें
कमल नहीं खिलता ,
तेरी चुप्पी –
मौन, कि
मैं जंजीर लिखूँ |

इस राजव्यवस्था
को कोई तो
बदलेगा ,
फिर तेरे ही
आंचल से
सूरज निकलेगा ,
फिर सिंहवाहिनी
तुझको
गंगा नीर लिखूँ |

Leave a Reply