प्यासी फसल – शिशिर मधुकर

ख्वाबों में तो आते हो ना आते हो असल में
ना मिलता है आनँद कोई मुझे ऐसे वस्ल में
बारिश की बूँदें बस दिखे ना गिरे ज़मीन पर
ऐसे कभी ना आएगी रौनक प्यासी फसल में

शिशिर मधुकर

8 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 28/11/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/11/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 28/11/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/11/2016
  3. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 28/11/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/11/2016
  4. vijay kumar Singh 29/11/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 29/11/2016