वीर सिपाही

हे वीर सिपाही तू भारत माँ का लाल है
देश के भीतर देश के बाहर, करता तू ही कमाल है

आंधी आए, तूफ़ान आए,तू न कभी उससे घबराए
हम दुबके जब अपने घर में,दुश्मन के तू छक्के छुड़ाए
तेरे जज्बे पर नहीं कर सकता कोई सवाल है
मेरे वीर सिपाही…।।।

जब दुश्मन करता वार है,चमके तेरा तलवार है
गोली भी खाता सीने में,जवाब देता दमदार है
तेरे लिये सब मांगे दुआ,सदा चमके तेरा मशाल है
हे वीर सिपाही….।।।

धन्य है वह जननी तेरी,धन्य बहन की रेशम डोरी
धन्य प्रिये का प्रेम अमर,धन्य पिता भाई की फेरी
छोड़ चला सब को तू सरहद,तू देशभक्ति का मिसाल है
हे वीर सिपाही…..।।।

7 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 26/11/2016
  2. babucm babucm 26/11/2016
  3. कृष्ण सैनी krishan saini 26/11/2016
  4. निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 28/11/2016

Leave a Reply