हंगामा (विवेक बिजनोरी)

मैं खुद को उसके पहलू में छिपाता हूँ तो हंगामा,
मैं कुछ पल साथ जो उसके बिताता हूँ तो हंगामा
नहीं मालुम के कमबख्त जमाना चाहता क्या है,
दर्द उसकी जुदाई का दिखता हूँ तो हंगामा

मैं दर्द-ऐ-दिल को जो दिल में दबाता हूँ तो हंगामा,
मैं रो के खुद की पलकों को भिगाता हूँ तो हंगामा
समझ आता नहीं ये खेल जो भाई है ज़माने का,
मैं राज-ऐ-दिल जो तुम सबको बताता हूँ तो हंगामा

विवेक कुमार शर्मा

12 Comments

  1. निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 25/11/2016
    • Vivek Sharma vivekbijnori 28/11/2016
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/11/2016
    • Vivek Sharma vivekbijnori 28/11/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/11/2016
    • Vivek Sharma vivekbijnori 28/11/2016
  4. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 26/11/2016
    • Vivek Sharma vivekbijnori 28/11/2016
  5. babucm babucm 26/11/2016
    • Vivek Sharma vivekbijnori 28/11/2016
    • Vivek Sharma vivekbijnori 28/11/2016

Leave a Reply