ख्यालो में गुजरने है लगी हर शब्…..मनिंदर सिंह “मनी”

ख्यालो में गुजरने है लगी हर शब्,
सनम पल पल संवरने है लगी हर शब्,,

जुदाई अब, सही जाये न ऐ बालम,
सहारा तेरा, तरसने है लगी हर शब्,,

गया था मुस्कुराता छोड़ कर मुझ को,
उसी पल पर गुजरने है लगी हर शब्,

किया था तुम ने वादा साथ चलने का,
उसी वादे में जलने है लगी हर शब्,,

शिकायत है नहीं तुझसे “मनी” कोई,
तेरी यादों में कटने है लगी हर शब्,,

मनिंदर सिंह “मनी”

12 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 25/11/2016
    • mani mani 27/11/2016
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 25/11/2016
    • mani mani 27/11/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 26/11/2016
    • mani mani 27/11/2016
  4. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 26/11/2016
    • mani mani 27/11/2016
    • mani mani 27/11/2016
  5. babucm babucm 26/11/2016
    • mani mani 27/11/2016

Leave a Reply