फिर यायावर हार गया:Er. Anand Sagar Pandey(अनन्य)

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा जो काला धन को रोकने के लिये ऐतिहासिक कदम उठाया गया, वह अब लोगों की नीयत से हारता दिख रहा है l

देशहित हेतु ऐसी परिस्थिति में सबको अपने हिस्से का  बलिदान देना होता है मगर आज हम जैसी नीयत लेकर दूसरों का काला धन सफ़ेद कराने में लगे हुए हैं उसी को आधार बनाकर एक ताज़ा रचना की है मैने l

उसका एक अंश आपके समक्ष रखता हूं-

 

*(पसंद आये तो इसी रूप में share करें l कृपया काट-छांट ना करें l)*

 

 

*फ़िर यायावर हार गया:अनन्य*

 

 

“अरुण लालिमा उनकी खातिर चिंता के बादल लाती है,

शामों के यौवन तक उनकी सब उम्मीदें मर जाती हैं,

सारे दावे झूठे लगने लगते हैं तब बातों में,

जब भूख अट्टहास करती है उनकी दुर्बल आंतों में,

कुछ गलियां काली रातों में भयभीत दिखायी देती हैं,

अक्सर उनमें झोपड़ियों की चीख सुनायी देती है,

उनको न्याय दिलाने सिंहासन का पहरेदार गया,

पर लगता है लोगों की नीयत के आगे हार गया l

 

 

सारा तंत्र दबा हो जैसे नोटों वाले ढेरों में,

सिसक रहा हो जैसे भारत काले धन के कुबेरों में,

संविधान घायल हो जैसे लिप्सा वाली चोटों से,

टूट चुकी हो अर्थव्यवस्था जैसे जाली नोटों से,

जब प्रधान सेवक ने इनको आज तमाचा मारा है,

तब लगता है दीपक ने तूफानों को ललकारा है,

वो यायावर कितने ही तूफानों को संहार गया,

पर लगता है लोगों की नीयत के आगे हार गया l

 

 

हम आसां हालातों में ही देश-देश चिल्लाते हैं,

पर थोड़ी मुश्किल आ जाये तो सहने से कतराते हैं,

ये प्रश्न उफनता है मन में इतिहास में इतने किस्से हैं,

क्या देशभक्ति केवल सेना और सरकारों के हिस्से हैं,

जब विश्व पटल पर किसी राष्ट्र को प्रथम दिखाना होता है,

तब सबको अपने हिस्से का बलिदान चढ़ाना होता है,

हम कर्महीन थे इसीलिये ही हर प्रयास बेकार गया,

फ़िर लोगों की नीयत के आगे यायावर हार गया ll

 

 

*Er. Anand Sagar Pandey,”अनन्य”*

9 Comments

  1. Markand Dave Markand Dave 24/11/2016
  2. C.M. Sharma babucm 24/11/2016
  3. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 24/11/2016
  4. Manjusha Manjusha 24/11/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/11/2016
  6. mani mani 24/11/2016
  7. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/11/2016
  8. kiran kapur gulati Kiran kapur Gulati 25/11/2016

Leave a Reply