मेरे वीर सिपाही

हे वीर सिपाही तू भारत माँ का लाल है
देश के भीतर देश के बाहर, करता तू ही कमाल है

आंधी आए, तूफ़ान आए,तू न कभी उससे घबराए
हम दुबके जब अपने घर में,दुश्मन के तू छक्के छुड़ाए
तेरे जज्बे पर नहीं कर्ताक्की सवाल है
मेरे वीर सिपाही…।।।

जब दुश्मन करता वार है,चमके तेरा तलवार है
गोली भी खाता सीने में,जवाब देता दमदार है
तेरे लिये सब मांगे दुआ,सदा चमके तेरा मशाल है
हे वीर सिपाही….।।।

धन्य है वह जननी तेरी,धन्य बहन की रेशम डोरी
धन्य प्रिये का प्रेम अमर,धन्य पिता भाई की फेरी
छोड़ चला सब को तू सरहद,तू देशभक्ति का मिसाल है
हे वीर सिपाही…..।।।

श्रीमती मधु तिवारी

7 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/11/2016
  2. Markand Dave Markand Dave 24/11/2016
  3. C.M. Sharma babucm 24/11/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/11/2016
  5. mani mani 24/11/2016

Leave a Reply