“चिन्तन”

दीवार की मुंडेर पर बैठ
आजकल रोजाना एक पंछी
डैने फैलाए धूप सेकता है
उसे देख भान होता है
उसकी जिन्दगी थम सी गई है
थमे भी क्यों ना ?
अनवरत असीम और अनन्त
आसमान में अन्तहीन परवाजे़
हौंसलों की पकड़ ढीली करती ही हैं
कोई बात नही……,
विश्रान्ति के पल हैं
कुछ चिन्तन करना चाहिए
परवाजों को कर बुलन्द
पुन: नभ को छूना चाहिए .

×××××

“मीना भारद्वाज”

14 Comments

  1. Manjusha Manjusha 22/11/2016
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/11/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 22/11/2016
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/11/2016
  3. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 22/11/2016
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/11/2016
  4. babucm babucm 23/11/2016
  5. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/11/2016
  6. mani mani 23/11/2016
  7. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/11/2016
  8. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/11/2016
  9. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 23/11/2016
    • Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 23/11/2016

Leave a Reply