वरना लोगों का मुहब्बत से:अनन्य

**”वरना लोगों का मुहब्बत से ऐतबार चला जायेगा”**

 

जिस दिन तेरी महफ़िल से ये खुद्दार चला जायेगा,

उसी दिन ये सारा रौनक-ए-मय्यार चला जायेगा l

 

तू बेशक कत्ल कर मेरा मगर चुपके से चला जा,

वरना लोगों का मुहब्बत से ऐतबार चला जायेगा l

 

बस मेरी लाश के गिरने तलक तमाशा है,

फ़िर देखना कि कैसे ये बाज़ार चला जायेगा l

 

तू तो तेरी सहूलियत के मुताबिक ही इश्क करता है,

मेरी सहूलियत पे मुझको मार, ये गुबार चला जायेगा l

 

थोड़ा सा वफाओं का ज़हर भी मिला दे इसमें,

वरना ये तीर तेरा यूं ही बेकार चला जायेगा l

 

एक लम्हा ही सही कभी मेरी तरह इश्क तो कर,

उम्रभर के लिये तेरा ये करार चला जायेगा l

 

खैर ! तेरी भी मजबूरी है जख्म देते रहना,

वरना तेरा मरहम का कारोबार चला जायेगा l

 

मेरी कश्ती को मेरे सीने में डुबा फ़िर देख “ऐ सागर”,

तेरी मौजों से तेरे तूफां का सारा भार चला जायेगा ll

 

              -Er Anand Sagar Pandey,”अनन्य”

3 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 19/11/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 19/11/2016

Leave a Reply