वो तुमको रोशनी देगा ये तुमको चांदनी देगी

नए घर में पुराने एक दो आले तो रहने दो,
दिया बनकर वहीं से माँ हमेशा रोशनी देगी ।

ये सूखी घास अपने लान की काटो न तुम, भाई !
पिता की याद आएगी तो ये फिर से नमी देगी ।

फरक लड़के औ’ लड़की में है बस महसूस करने का,
वो तुमको रोशनी देगा ये तुमको चाँदनी देगी ।

ये माँ से भी अधिक उजली इसे मलबा न होने दो,
ये गंगा है यही दुनिया को फिर से ज़िंदगी देगी ।।

Leave a Reply