पग पग “” “”””सविता वर्मा

पग पग बाधें स्नेह का बन्धन

राह चलु अंगड़ाई ले

तुम्हें छोड़ कैसे मैं जाऊ

बागो की अमराई में।।।।