कहाँ से ला के दे देता

मै अपना नाम दे देता,मै अपनी शान दे देता,
यदि तुम मांग लेती जान,मै हस के जान दे देता,
खजाने अम्बर के कैसे दूँ मेरे है पांव धरती पर,
थी चाहत चांद तारो की कहाँ से ला के दे देता।

“शशाँक हिरकने”

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 11/11/2016
    • Shashank Hirkaney Shashank Hirkaney 12/11/2016
  2. C.M. Sharma babucm 11/11/2016
    • Shashank Hirkaney Shashank Hirkaney 12/11/2016

Leave a Reply