कभी मूरत से कभी सूरत से हमको प्यार होता है

कभी मूरत कभी सूरत से हमको प्यार होता है
इबादत में मुहब्बत का ही इक विस्तार होता है ।

हम करवाचौथ के व्रत को मुकम्मल मान लेते हैं
ज़मीं के चाँद को जब चाँद का दीदार होता है ।

पुजारिन बनके पतियों की उमर की कामना करतीं,
सुहागिन औरतों का इससे बेड़ा पार होता है ।

तुम्हें ऐ चाँद हिन्दू देख लें तो चौथ होता है,
मुसलमां देख लें तो ईद का त्यौहार होता है ।

यही वो चाँद है बच्चे जिसे मामा कहा करते,
हक़ीक़त में मगर रिश्तों का भी आधार होता है ।

Leave a Reply