ग़ालिब

जब भी तुझको पढ़ता हूँ
लफ़्ज़-लफ़्ज़ से गोया
आसमाँ खिला देखूँ
एक-एक मिसरे में
कायनात का साया
फैलता हुआ देखूँ!

Leave a Reply