तहज़ीब ।

तहज़ीब की आसान राहों में, काँटे बिखेर के चल दिए,
भरी महफ़िल में इज्ज़्त को तार-तार कर के चल दिए..!

मार्कण्ड दवे । दिनांकः २० ओक्टॉबर २०१६.

tahazib

7 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 08/11/2016
    • Markand Dave Markand Dave 09/11/2016
    • Markand Dave Markand Dave 09/11/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 08/11/2016
    • Markand Dave Markand Dave 09/11/2016
  3. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 10/11/2016

Leave a Reply