ज़िन्दगी में

शीर्षक–ज़िन्दगी में
ज़िन्दगी में,
सब जरुरी है
सफलता के लिए
असफलता का दोहराव जरुरी हैं
बिखरने का डर जरुरी हैं
निखरने का सपना जरुरी हैं।
अकलमन्द हो या ना हो
ज़िन्दगी में
ज़िन्दगी के लिए
हुनरमंद होना जरुरी हैं।
गति हो या ना हो
या मंथर गति हो
तीव्र गति को पाने के लिए
प्रयास तीव्र होना जरुरी हैं।
जिंदगी में
सब जरुरी हैं
जीत के लिए
हार का स्वाद चखना जरुरी है
हार से हार ना मानकर
उठकर,संभलकर
डटकर
जीतने के लिए
ज़िन्दगी की रेस में
दौड़ते रहना जरूरी हैं।————अभिषेक राजहंस
All rights reserved

4 Comments

  1. C.M. Sharma babucm 07/11/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 07/11/2016
  3. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 10/11/2016

Leave a Reply