नया सवेरा, नयी उमंगें – अनु महेश्वरी

रात का अंधेरा छटने लगा,
गगन में छाने लगी, सूरज की लालिमा।
पक्षियों ने चहचहाना शुरू किया,
नया सवेरा, नयी उमंगें लेकर आया।

भोर के उजाले ने,
जगाया मुझे नींद से।
बाहर निकाल बीते कल से,
जगाई नयी आशा दिल में।

वो ‘कल’ था, जो बीत गया,
वो ‘कल’ होगा, जो आएगा।
बीता ‘कल’ लौट के नहीं आता,
आनेवाला ‘कल’ का भी नहीं पता।

जो अभी है,
वो ‘आज’ है,
क्यों न हम ‘आज’ में जिए,
खुश रहे और खुशियाँ बांटे।

 
“अनु महेश्वरी”
चेन्नई

14 Comments

  1. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 06/11/2016
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 06/11/2016
  2. mani mani 06/11/2016
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 06/11/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/11/2016
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 06/11/2016
  4. C.M. Sharma babucm 06/11/2016
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 06/11/2016
  5. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 07/11/2016
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 07/11/2016
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 30/11/2016
  6. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 10/11/2016
    • ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 30/11/2016

Leave a Reply