आने की आस में ……………डी. के निवातियाँ


    1. राम के घर लौट आने की खुशियाँ  मनाता हूँ
      इसलिए हर बार अनेको दीपक मैं  जलाता हूँ
      लगी है दर पे आँखे राम के आने की आस में
      शायद आये इसबार, ये सोच दिवाली मनाता हूँ  !!!
      !
      !
      डी. के   निवातियाँ ________@@@

14 Comments

  1. mani mani 02/11/2016
    • निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 05/11/2016
  2. babucm babucm 02/11/2016
    • निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 05/11/2016
  3. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 02/11/2016
    • निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 05/11/2016
  4. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 02/11/2016
    • निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 05/11/2016
  5. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/11/2016
    • निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 05/11/2016
  6. MANOJ KUMAR MANOJ KUMAR 02/11/2016
    • निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 05/11/2016
  7. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 03/11/2016
    • निवातियाँ डी. के. निवातियाँ डी. के. 05/11/2016

Leave a Reply